प्राणायाम करने के फायदे

Pranayam karne ke fayde

प्राणायाम के अभ्यास से जो मुख्य लाभ होते है , वे संक्षेप में इस प्रकार है :
  • वात , पित्त और कफ , इन तीनों दोषों का संतुलन होता है। 
  • पाचनतंत्र पूर्ण स्वस्थ हो जाता है तथा समस्त उदररोग दूर होते है। 
  • हृदय , फेफड़े एवं मस्तिष्क - सम्बन्धी समस्त रोग दूर होते है। 
  • मोटापा , मधुमेह , कोलेस्ट्रॉल , कब्ज़ , गैस , अम्लपित्त , श्वास रोग , एलर्जी , माइग्रेन , रक्तचाप , किडनी के रोग , पुरुष और स्त्रियों के समस्त यौन रोग, सामान्य  रोगों से कैंसर तक सभी साध्य - असाध्य रोग दूर होते है। 
  • रोग - प्रतिरोधक क्षमता अत्यधिक विकसित हो जाती है। 
  • वंशानुगत डायबिटीज एवं हृदयरोग आदि से बचा जा सकता है। 
  • बालों का झड़ना और सफ़ेद होना , चेहरे पर झुर्रियाँ पड़ना , नेत्रज्योति के विकार , स्मृति - दौर्बल्य आदि से बचा जा सकता है , अर्थात बुढ़ापा देर से आयेगा तथा आयु बढ़ेगी। 
  • मुख पर आभा , ओज , तेज एवं शांति आयेगी। 
  • चक्रों के शोधन , भेदन तथा जागरण द्वारा आध्यात्मिक शक्ति (कुंडलिनी - जागरण ) की प्राप्ति होगी। 
  • मन अत्यंत स्थिर , शांत और प्रसन्न तथा उत्साहित होगा , डिप्रेशन आदि रोगों से बचा जा सकेगा। 
  • ध्यान स्वतः लगने लगेगा तथा घंटों तक ध्यान का अभ्यास करने का सामर्थ्य प्राप्त होगा। 
  • स्थूल एवं सूक्ष्म देह के समस्त रोग और काम , क्रोध , लोभ , मोह एवं अहंकार आदि दोष नष्ट होते है। 
  • शरीरगत समस्त विकार , विजातीय तत्त्व , टॉक्सिन्स नष्ट हो जाते है। 
  • नकारात्मक विचार समाप्त होते है तथा प्राणायाम का अभ्यास करने वाला व्यक्ति सदा सकारात्मक विचार , ऊर्जा एवं आत्मविश्वास से भरा हुआ होता है। 
Previous Post Next Post