आपने अक्सर देखा होगा कि फिल्म अभिनेता , गायक , Motivational Speaker इत्यादि ; इन सभी के आवाज में मानो जैसे कि जादू होता है और हम सभी उनकी आवाजों से प्रभावित हो जाते है। वही कुछ गायक ऐसे भी है जिनका आवाज मानो शहद से भी अधिक मीठा प्रतीत होता है। क्या आप जानते है कि ऐसा क्या होता इनकी आवाजों में ? या फिर अगर आप भी एक अभिनेता बनना चाहते है या गायक बनना चाहते है तब तो आपके लिए ये बहुत महत्त्वपूर्ण होता है कि आप भी अपनी आवाजों कुछ ऐसा जादू उत्पन्न करें जिससे कि लोग आपसे से प्रभावित हो जाए। या फिर आप अपने व्यक्तित्व  को ही निखारना चाहते है तो आपको पता होना चाहिए कि आवाज आपके व्यक्तित्व में अहम् भूमिका निभाती है। 

How To Make Your Attractive and deep in Hindi

अपने आवाज को मीठा, सुरीला तथा आकर्षक कैसे बनाएँ ?

देखिए आवाज को मीठा , सुरीला तथा आकर्षक बनाने के कई तरीके है। लेकिन , हम आपको बहुत ही साधारण - सा एक प्राणायाम बताएंगे जिससे आप अपने आवाज में सुधार ला सकते है। जी हाँ , उस प्राणायाम का नाम है जालंधर बंध। इस प्राणायाम की मदद से आप केवल कुछ दिन की ही अभ्यास से अपने आवाज में परिवर्तन महसूस कर सकते है। वैसे , इस प्राणायाम के कई सारे और भी लाभ है। तो चलिए , अब बात करते है कि इस प्राणायाम को कैसे किया जाता है और इसके क्या - क्या लाभ है। 

जालंधर बंध कैसे करे ?

Jalandhar Bandh Benefits, Methods in Hindi
जालंधर बंध

पद्मासन या सिद्धासन में सीधे बैठकर श्वास को अंदर भर लें। दोनों हाथ घुटनों पर टिके हुए हों। अब ठोड़ी को नीचे झुकाते हुए कंठकूप में लगाना 'जालंधर बंध' कहलाता है। दृष्टि को भ्रूमध्य में स्थिर करें। छाती आगे की ओर तनी हुई होगी। यह बंध कण्ठस्थान के नाड़ी - जाल को बाँधे रखता है। 

जालंधर बंध के लाभ :

  1. कंठ मधुर , सुरीला तथा आकर्षक होता है। 
  2. कंठ के संकोच द्वारा इड़ा , पिंगला नाड़ियों के बंद होने पर प्राण का सुषुम्णा में प्रवेश होता है। 
  3. गले के सभी रोगों में लाभप्रद है। थाइरोइड , टॉन्सिल आदि रोगों में अभ्यासनीय है। 
  4. विशुद्धि - चक्र की जागृति होती है। 
Previous Post Next Post